तिरूवनंतपुरम में कोरोना पॉजिटिव गोपिका ने एंबुलेंस में बैठकर दी पीएससी एग्जाम, शशि थरूर ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर की इस महिला की तारीफ

  • Hindi News
  • Women
  • Lifestyle
  • Shashi Tharoor Praised This Woman On Her Social Media Account, While Sitting In An Ambulance, Corona Positive Gopika In Thiruvananthapuram

6 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

  • गोपिका इस एग्जाम के जरिये असिस्टेंट प्रोफेसर की जॉब पाना चाहती हैं
  • एग्जाम के पहले जब उन्हें अपने कोरोना पॉजिटिव होने का पता चला तो भी उन्होंने हार नहीं मानी और एंबुलेंस में बैठकर ही एग्जाम देने का फैसला किया

इस साल महामारी की वजह से ऐसे कई स्टूडेंट्स हैं जिन्होंने सिविल सर्विसेस एग्जाम जैसी करिअर में विशेष स्थान रखने वाली परीक्षा भी नहीं दी। इनमें से कई स्टूडेंट्स वे थे जो कोरोना पॉजिटिव होने की वजह से एग्जाम का हिस्सा नहीं बन पाए तो कई ने कोरोना इंफेक्शन के डर से एग्जाम हॉल तक जाना उचित नहीं समझा।इन हालातों के बीच केरल में तिरूवनंतपुरम की एक महिला गोपिका गोपन ने पीएससी एग्जाम एंबुलेंस में बैठकर दी। दरअसल गोपिका इस एग्जाम के जरिये असिस्टेंट प्रोफेसर की जॉब पाना चाहती हैं। एग्जाम के पहले जब उन्हें अपने कोरोना पॉजिटिव होने का पता चला तो भी उन्होंने हार नहीं मानी और एंबुलेंस में बैठकर ही एग्जाम देने का फैसला किया।

गोपिका ने बताया कि ”जब हम एग्जाम में लिखना शुरू करते हैं तो इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि एग्जाम हॉल में बैठे हैं या एंबुलेंस में। उस वक्त सिर्फ एग्जाम में पास होने पर ध्यान होता है”। इस महिला के जोश को तिरुवनंतपुरम से कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने भी सराहा और ट्विटर पर उनकी तारीफ की।

ये भी पढ़ें :

सोशल मीडिया पर ट्रेंडिंग:अमेरिका के टेक्सास में स्टूडेंट्स की फेवरेट बनीं होमवर्क न देने वाली टीचर, छात्र इनके लिए ‘टीचर ऑफ द ईयर’ खिताब की मांग कर रहे हैं

नेक पहल:मुंबई की स्टूडेंट बरखा सेठ ने अपने भाई के साथ मिलकर उन महिलाओं को दिया एक मंच जिन्होंने साइंस के क्षेत्र में सराहनीय काम किया है

जोधपुर की बेटी को अंतरराष्ट्रीय बाल शांति पुरस्कार:4 बाल विवाह रुकवाने और 130 बालिकाओं को सेल्फ डिफेंस सिखाने वाली 15 वर्षीय जसोदा, शांति पुरस्कार के लिए नामित

Related Posts
Spread the love

Leave a Comment