NCERT solutions class 10 science chapter 1 in Hindi

Ncert solutions class 10 science chapter 1 in Hindi
Chapter 1 रासायनिक अभिक्रियाएँ एवं समीकरण

                                                           Page 6

प्रश्न 1: वायु में जलाने से पहले मैग्नीशियम रिबन को साफ़ क्यों किया जाता है?
उत्तर 1: मैग्नीशियम बहुत ही क्रियाशील धातु (जैसे Na, Ca आदि) की तरह है। जब यह खुले में रखा जाता है, तो इसकी बाहरी सतह वातावरण की ऑक्सीजन से क्रिया करके मैग्नीशियम ऑक्साइड की परत (MgO) बना लेती है।
                                                Mg + O2 → 2MgO
मैग्नीशियम ऑक्साइड की यह परत काफी स्थिर होती है और ऑक्सीजन के साथ मैग्नीशियम की पुनः प्रतिक्रिया को रोकती है। इस परत को हटाने के लिए मैग्नीशियम रिबन को रेत पेपर द्वारा साफ किया जाता है ताकि अंतर्निहित धातु का उपयोग प्रतिक्रिया के लिए किया जा सके।

प्रश्न 2: निम्नलिखित रासायनिक अभिक्रियाओं के लिए संतुलित समीकरण लिखिए:
(i) हाइड्रोजन + क्लोरीन → हाइड्रोजन क्लोराइड
(ii) बेरियम क्लोराइड + ऐलुमीनियम सल्फेट → बेरियम सल्फेट + ऐलुमीनियम क्लोराइड
(iii) सोडियम + जल → सोडियम हाइड्रॉक्साइड + हाइड्रोजन
उत्तर 2: (i)     H2 + Cl2 → 2HCL

(ii)     3BaCl2 + Al2(SO4)3 → 3BaSO4 + 2AlCl3

(iii)    2Na + 2H2O → 2 NaOH + H2

प्रश्न 3: निम्नलिखित अभिक्रियाओं के लिए उनकी अवस्था के संकेतों के साथ संतुलित रासायनिक समीकरण लिखिए: (i) जल में बेरियम क्लोराइड तथा सोडियम सल्फेट के विलियन अभिक्रिया करके सोडियम क्लोराइड का विलयन तथा बेरियम सल्फेट का अवक्षेप बनाते हैं।
(ii) सोडियम हाइड्रोक्साइड का विलियन (जल में) हाइड्रोक्लोरिक अम्ल के विलयन (जल में) से अभिक्रिया करके सोडियम क्लोराइड का विलयन तथा जल बनाते हैं।
उत्तर 3:
(i) BaCl2(aq) + Na2SO4(aq) → Bas04(s) + 2NaCl(aq)

(ii) NaOH(aq) + HCl(aq) → Nacl(aq) + H2O(l)

                                                           Page 11

प्रश्न 1: किसी पदार्थ ‘x’ के विलयन का उपयोग सफ़ेदी करने के लिए होता है।
(i) पदार्थ ‘x’ का नाम तथा इसका सूत्र लिखिए।
(ii) ऊपर (i) में लिखे पदार्थ ‘x’ की जल के साथ अभिक्रिया लिखिए।
उत्तर 1:
(i) पदार्थ ‘x’ का नाम कैल्शियम ऑक्साइड है तथा इसका सूत्र CaO है।
(ii) कैल्शियम ऑक्साइड (बिना बुझा हुआ चूना) जल के साथ तीव्रता से अभिक्रिया करके बुझे हुए चूने का निर्माण करके अधिक मात्रा में ऊष्मा उत्पन्न करता है।
CaO + H2O → Ca(OH)2
कैल्शियम ऑक्साइड(बिना बुझा हुआ चूना) जल कैल्शियम हाइड्रोक्साइड (बुझा हुआ चूना)

प्रश्न 2: क्रियाकलाप 1.7 में एक परखनली में एकत्रित गैस की मात्रा दूसरी से दोगुनी क्यों है? उस गैस का नाम बताइए।
उत्तर 2: जल के वैधुत अपघटन के दौरान, हाइड्रोजन और ऑक्सीजन अलग हो जाते हैं। पानी (H2O) में दो भाग हाइड्रोजन और एक भाग ऑक्सीजन होता है। चूंकि हाइड्रोजन एक परखनली में जाता है और ऑक्सीजन दूसरे में जाता है, इसलिए एक परखनली में एकत्र गैस (हाइड्रोजन) की मात्रा दूसरे में एकत्र की गई गैस (ऑक्सीजन) की मात्रा का दोगुना है।
                                  2H2O → 2H2 + O2

                                                          Page 15

प्रश्न 1: जब लोहे की कील को कॉपर सल्फेट के विलयन में डुबाया जाता है तो विलयन का रंग क्यों बदल जाता है? उत्तर 1:जब एक कॉपर सल्फेट विलयन में लोहे की कील डुबायी जाती है, तो लोहा (जो कॉपर की तुलना में अधिक क्रियाशील होता है) कॉपर सल्फेट विलयन से कॉपर का विस्थापन कर देता है और लोहे का सल्फेट बनता है, जो कि रंग में हरा होता है। इसलिए विलयन का रंग बदल जाता है।
                         CuSO4 + Fe    →    FeSO4 + Cu
                       कॉपर सल्फेट       आयरन सल्फेट
                        (नीला रंग)                  (हरा रंग)

प्रश्न 2: क्रियाकलाप 1.10 से भिन्न द्विविस्थापन अभिक्रिया का एक उदाहरण दीजिए।
उत्तर 2: सोडियम कार्बोनेट, कैल्शियम क्लोराइड के साथ अभिक्रिया करके कैल्शियम कार्बोनेट और सोडियम क्लोराइड बनाता है। इस अभिक्रिया में, सोडियम कार्बोनेट और कैल्शियम क्लोराइड आयनों का आदान प्रदान करके दो नए यौगिक बनाते हैं। इसलिए, यह एक द्विविस्थापन अभिक्रिया है।
                Na2CO3          +        CaCl2      →       CaCO3      +      2NaCl
      सोडियम कार्बोनट       कैल्शियम क्लोराइड    कैल्शियम कार्बोनेट    सोडियम क्लोराइड

प्रश्न 3: निम्न अभिक्रियाओं में उपचयित तथा अपचयित पदार्थों की पहचान कीजिए:
(i) 4Na(s) + O2(g) → 2Na2O(s)
(ii) CuO(s) + H2(g) → Cu(s) + H2O(l)
उत्तर 3: (i) सोडियम (Na)का उपचायन होता है क्योंकि इसे ऑक्सीजन प्राप्त होती है और ऑक्सीजन अपचयित होती है।
(ii) इस अभिक्रिया में कॉपर ऑक्साइड (Cu0), कॉपर (Cu) में अपचयित हो जाता है। हाइड्रोजन (H2) उपचयित होकर जल (H2O) बनता है।

                                                             अभ्यास

प्रश्न 1: नीचे दी गयी अभिक्रिया के संबंध में कौन सा कथन असत्य है?
2Pbo(s)+ C(s) → 2Pb(s)+ C02(g)
(a) सीसा अपचयित हो रहा है।
(b) कार्बन डाइऑक्साइड उपचयित हो रहा है।
(c) कार्बन उपचयित हो रहा है।
(d) लेड ऑक्साइड अपचयित हो रहा है
(i) (a) एवं (b) (ii) (a) एवं (c) (iii) (a), (b) एवं (c) (iv) सभी
उत्तर 1: (i) (a) एवं (b)

प्रश्न 2: Fe203 + 2AI → Al203+2Fe
ऊपर दी गयी अभिक्रिया किस प्रकार की है:
(a) संयोजन अभिक्रिया
(b) द्विविस्थापन अभिक्रिया
(c) वियोजन अभिक्रिया
(d) विस्थापन अभिक्रिया
उत्तर 2: (d) विस्थापन अभिक्रिया

प्रश्न 3: लौह-चूर्ण पर तनु हाइड्रोक्लोरिक अम्ल डालने से क्या होता है? सही उत्तर पर निशान लगाइए।
(a) हाइड्रोजन गैस एवं आयरन क्लोराइड बनता है।
(b) क्लोरीन गैस एवं आयरन हाइड्रोक्साइड बनता है।
(c) कोई अभिक्रिया नहीं होती है।
(d) आयरन लवण एवं जल बनता है।
उत्तर : (a) हाइड्रोजन गैस एवं आयरन क्लोराइड बनता है

प्रश्न 4: संतुलित रासायनिक समीकरण क्या है? रासायनिक समीकरण को संतुलित करना क्यों आवश्यक है?
उत्तर 4: रासायनिक अभिक्रिया जिसमें दोनों पक्षों के प्रत्येक तत्व के परमाणु बराबर संख्या में होते हैं, संतुलित रासायनिक समीकरण कहा जाता है। द्रव्यमान संरक्षण के नियम के अनुसार द्रव्यमान न बनाया जा सकता है और ना ही नष्ट किया जा सकता है। इसलिए, एक रासायनिक अभिक्रिया में, अभिकारक का कुल द्रव्यमान उत्पादों के कुल द्रव्यमान के बराबर होना चाहिए। अर्थात प्रत्येक तत्व के परमाणुओं की कुल संख्या दोनों तरफ बराबर होनी चाहिए। इसलिए एक रासायनिक समीकरण को संतुलित करना आवश्यक है

प्रश्न 5: निम्न कथनों को रासायनिक समीकरण के रूप में परिवर्तित कर उन्हें संतुलित कीजिए।
(a) नाइट्रोजन हाइड्रोजन गैस से संयोग करके अमोनिया बनाता है। ।
(b) हाइड्रोजन सल्फाइड गैस का वायु में दहन होने पर जल एवं सल्फर डाइऑक्साइड बनता है।
(c) ऐलुमिनियम सल्फेट के साथ अभिक्रिया कर बेरियम क्लोराइड, ऐलुमिनियम क्लोराइड एवं बेरियम सल्फेट का अवक्षेप देता है।
(d) पोटेशियम धातु जल के साथ अभिक्रिया करके पोटैशियम हाइड्रोक्साइड एवं हाइड्रोजन गैस देती है।
उत्तर 5:
(a) N2(g) + 3H2(g) → 2NH3(g)
(b) 2H2S + 3O2 → 2SO2 + 2H2O
(c) 3BaCl2 + Al2(SO4)3 → 2AICl3 + 3BaSO4
(d) 2K + 2H2O → 2KOH + H2

प्रश्न 6: निम्न रासायनिक समीकरणों को संतुलित कीजिए:
(a) HNO3 + Ca(OH)2 → Ca(NO3)2 + H2O
(b) NaOH + H2SO4 → Na2SO4 + H2O
(c) NaCl + AgNO3 → AgCl + NaNO3
(d) BaCl2 + H2SO4 → BaSO4 + HCl
उत्तर 6:
(a) 2HNO3 + Ca(OH)2 → Ca(NO3)2 + 2H2O
(b) 2NaOH + H2SO4 → Na2SO4 + 2H2O
(c) NaCl + AgNO3 → AgCl + NaNO3
(d) BaCl2 + H2SO4 → BaSO4 + 2HCl

प्रश्न 7: निम्न अभिक्रियाओं के लिए संतुलित रासायनिक समीकरण लिखिए:
(a) कैल्शियम हाइड्रोक्साइड + कार्बन डाइऑक्साइड → कैल्शियम कार्बोनेट + जल
(b) जिंक + सिल्वर नाइट्रेट → जिंक नाइट्रेट + सिल्वर
(c) एलुमिनियम + कॉपर क्लोराइड → ऐलुमिनियम क्लोराइड + कॉपर
(d) बेरियम क्लोराइड + पोटेशियम सल्फेट → बेरियम सल्फेट + पोटेशियम क्लोराइड

उत्तर 7:
(a) Ca(OH)2 + C02 → CaCO3 + H2O
(b) Zn + 2AgNO3 → Zn(NO3)2 + 2Ag
(c) 2Al + 3CuCl2 → 2AlCl3 + 2Cu
(b) BaCl2 + K2SO4 → BaSO4 + 2KCl

प्रश्न 8: निम्न अभिक्रियाओं के लिए संतुलित रासायनिक समीकरण लिखिए एवं प्रत्येक अभिक्रिया का प्रकार बताइए। (a) पोटैशियम ब्रोमाइड(aq) + बेरियम आयोडाइड(aq) → पोटैशियम आयोडाइड(aq) + बेरियम ब्रोमाइड(s)
(b) जिंक कार्बोनेट(s) → जिंक ऑक्साइड (s) + कार्बन डाइऑक्साइड (g)
(c) हाइड्रोजन(g) + क्लोरीन (g) → हाइड्रोजन क्लोराइड (g)
(d) मैग्नीशियम(s) + हाइड्रोक्लोरिक अम्ल(aq) → मैग्नीशियम क्लोराइड(aq) + हाइड्रोजन (g)
उत्तर: (a) यह द्विविस्थापन अभिक्रिया है।
2KBr(aq) + Bal2(aq) → 2KI(aq) + BaBr2(s)

(b) यह वियोजन अभिक्रिया है।
ZnCO3(s) → Zno(s) + CO2(g)

(c) यह संयोजन अभिक्रिया है।
H2(g) + Cl2(g) → 2HCl(g)

(d) यह विस्थापन अभिक्रिया है।
Mg(s) + 2HCl(ag) → MgCl2(aq) + H2(g)

प्रश्न 9: ऊष्माक्षेपी एवं ऊष्माशोषी अभिक्रिया का क्या अर्थ है? उदाहरण दीजिए।
उत्तर 9: ऊष्माक्षेपी अभिक्रिया: जिन अभिक्रियाओं में उत्पाद के साथ – साथ ऊष्मा का भी उत्सर्जन होता है उन्हें ऊष्माक्षेपी अभिक्रियाएँ कहते हैं। जैसे: प्राकृतिक गैस का दहन।
CH4(g) + O2(g) → CO2(g) + 2H2O(g) +ऊष्मा

ऊष्माशोषी अभिक्रिया: जिन अभिक्रियाओं में अभिकारकों को तोड़ने के लिए ऊष्मा, प्रकाश या विदयुत ऊर्जा की आवश्यकता होती है, उन्हें ऊष्माशोषी अभिक्रियाएँ कहते हैं। जैसे: सिल्वर क्लोराइड का प्रकाश की उपस्थिति में सिल्वर तथा क्लोरीन में बदलना।
सूर्य का प्रकाश
2AgCl(s) → 2Ag(s) + Cl2(g)

प्रश्न 10: श्वसन को ऊष्माक्षेपी अभिक्रिया क्यों कहते है? वर्णन कीजिए।
उत्तर 10: सभी जीवों की कोशिकाओं में ग्लूकोज ऑक्सीजन के साथ क्रिया करता है और ऊर्जा प्रदान करता है। इस विशेष दहन अभिक्रिया का नाम श्वसन है। क्योंकि इस अभिक्रिया में ऊर्जा निकलती है। अतः, अभिक्रिया को ऊष्माक्षेपी अभिक्रिया कहते हैं।
C6H12O6(aq) + 6O2(g) → 6CO2(g) + 6H2O + ऊर्जा
(ग्लूकोज) ऑक्सीजन कार्बन डाइऑक्साइड जल

प्रश्न 11: वियोजन अभिक्रिया को संयोजन अभिक्रिया के विपरीत क्यों कहा जाता है? इन अभिक्रियाओं के लिए समीकरण लिखिए।
उत्तर 11: वियोजन अभिक्रिया वह है जिसमें एकल अभिकारक टूट कर दो या उससे अधिक उत्पाद बनाते हैं। जबकि संयोजन अभिक्रिया इसके बिलकुल विपरीत है जिसमें दो या दो से अधिक अभिकारक मिलकर एकल उत्पाद बनाते हैं।
वियोजन अभिक्रिया:
AB + ऊर्जा → A+B
सूर्य का प्रकाश
2AgCl(s) → 2Ag(s) + Cl2(g)
संयोजन अभिक्रिया:
A+ B → AB + ऊर्जा
सूर्य का प्रकाश
C(s) + O2(g) → CO2(g) + ऊर्जा

प्रश्न 12: उन वियोजन अभिक्रियाओं के एक-एक समीकरण लिखिए जिनमें ऊष्मा, प्रकाश एवं विद्युत के रूप में ऊर्जा प्रदान की जाती है।
उत्तर 12:
ऊष्मा द्वारा वियोजन अभिक्रिया:
CaCO3(s) → CaO(s) + CO2(g)
प्रकाश द्वारा वियोजन अभिक्रिया:
2AgCl(s) → 2Ag(s) + Cl2(g)
विद्युत द्वारा वियोजन अभिक्रिया:
2H2O(l) → 2H2(g) + 02(g)

प्रश्न 13: विस्थापन एंव द्विविस्थापन अभिक्रियाओं में क्या अंतर है? इन अभिक्रियाओं के समीकरण लिखिए।
उत्तर 13: विस्थापन अभिक्रिया: इन अभिक्रियाओं में अधिक क्रियाशील तत्व कम क्रियाशील तत्व को उसके यौगिक से विस्थापित कर देता है। जैसे:
A+ BC → AC+ B
यहाँ A अधिक क्रियाशील है।
Zn(s) + 2AgNO3(aq) → Zn(NO3)2(aq) + 2Ag(s)
जिंक सिल्वर नाइट्रेट जिंक नाइट्रेट सिल्वर
यहाँ Zn अधिक क्रियाशील है।

द्विविस्थापन अभिक्रिया: इन अभिक्रियाओं में उत्पादों का निर्माण, दो यौगिकों के बीच आयनों के आदान प्रदान से होता है। जैसे:
AM + BN → AN+ BM
2KBr(aq) + Bal2(aq) → 2KI(aq) + BaBr2(s)
पोटेशियम ब्रोमाइड बेरियम आयोडाइड पोटैशियम आयोडाइड बेरियम ब्रोमाइड

प्रश्न 14: सिल्वर के शोधन में, सिल्वर नाइट्रेट के विलयन से सिल्वर प्राप्त करने के लिए कॉपर धातु द्वारा विस्थापन किया जाता है। इस प्रक्रिया के लिए अभिक्रिया लिखिए।
उत्तर 14:
Cu(s) + 2AgNO3(aq) → Cu(NO3)2(aq) + 2Ag(s)
कॉपर सिल्वर नाइट्रेट कॉपर नाइट्रेट सिल्वर

प्रश्न 15: अवक्षेपण अभिक्रिया से आप क्या समझते हैं? उदाहरण देकर समझाइए।
उत्तर 15: जिस अभिक्रिया में अविलेय अवक्षेप का निर्माण होता है, अवक्षेपण अभिक्रिया कहलाती है। जैसे निम्न अभिक्रिया में बेरियम सल्फेट (BaSO4) के सफ़ेद अविलेय अवक्षेप का निर्माण होता है। इसलिए यह एक अवक्षेपण अभिक्रिया है।
BaCl2 + K2SO4 → BaSO4 + 2KCL
बेरियम क्लोराइड पोटैशियम सल्फेट बेरियम सल्फेट पोटेशियम क्लोराइड

प्रश्न 16: ऑक्सीजन के योग या ह्रास के आधार पर निम्न पदों की व्याख्या कीजिए। प्रत्येक की लिए दो उदाहरण दीजिए। (a) उपचयन (b) अपचयन
उत्तर 16: (a) उपचयन: इसमें ऑक्सीजन की वृद्धि होती है।
C+O2 → CO2
2Cu+O2 → 2CuO
यहाँ, कार्बन तथा कॉपर का उपचयन हुआ है।
(b) अपचयन: इसमें ऑक्सीजन का ह्रास होता है।
CO2+H2 → CO+ H2O
CuO+H2 → Cu+ H20
यहाँ, कार्बन डाइआक्साइड और कॉपर आक्साइड का अपचयन हुआ है।

प्रश्न 17: एक भूरे रंग का चमकदार तत्व ‘X’ को वायु की उपस्थिति में गर्म करने पर वह काले रंग का हो जाता है। इस तत्व ‘X’ एवं उस रंग के यौगिक का नाम बताइए।
उत्तर 17: तत्व ‘X’ कॉपर (Cu) है और उस काले रंग के यौगिक का नाम कॉपर ऑक्साइड (CuO) है।
                                                  ऊष्मा
                  2Cu           +      O2     →        2CuO
भूरे रंग का चमकदार तत्व                      काले रंग का तत्व

प्रश्न 18: लोहे की वस्तुओं को हम पेंट क्यों करते है?
उत्तर 18: संक्षारण के कारण लोहे की बनी वस्तुओं का क्षय होता रहता है। उसे इस होने वाले क्षय से बचने के लिए उस पर पेंट किया हटा है। पेंट होने के कारण लोहे और वायु का संपर्क नहीं हो पता है और लोहे की वस्तुएँ बहुत समय तक सुरक्षित रहती हैं।

प्रश्न 19: तेल एवं वसायुक्त खाद्य पदार्थों को नाइट्रोजन से प्रभावित क्यों किया जाता है?
उत्तर 19: तेल तथा वसायुक्त खाद्य पदार्थ वायु (वायु में उपस्थित ऑक्सीजन) से क्रिया करके विकृतगंधी हो जाते हैं। नाइट्रोजन सामान्य ताप पर आसानी से अभिक्रिया नहीं करती है। इसलिए तेल तथा वसायुक्त खाद्य पदार्थों को नाइट्रोजन से प्रभावित किया जाता है।

प्रश्न 20: निम्न पदों का वर्णन कीजिए तथा प्रत्येक का एक-एक उदाहरण दीजिए:
(a) संक्षारण (b) विकृतगंधिता
उत्तर 20:
(a) संक्षारण: जब कोई धातु, आर्द्रता, अम्ल आदि के संपर्क में आती है, जिससे क्रिया करके धातु की ऊपरी परत कमजोर हो जाती है। इस प्रक्रिया को संक्षारण कहते हैं। जैसे: लोहे के ऊपर जंग लगना, चाँदी के ऊपर काली परत आना, तांबे के ऊपर हरी परत चढ़ना आदि संक्षारण के उदाहरण हैं।

(b) विकृतगंधिता: तेल तथा वसायुक्त खाद्य पदार्थ वायु (वायु में उपस्थित ऑक्सीजन) से क्रिया करके विकृतगंधी हो जाते हैं। इस प्रक्रिया को विकृतगंधिता कहते हैं। जैसे: चिप्स की थैली में से ऑक्सीजन हटाकर उसमें नाइट्रोजन जैसे कम सक्रिय गैस को भरना विकृतगंधिता को रोकने के लिए किया जाता है।

Ncert solutions class 10 science chapter 1 in Hindi

Related Posts
Spread the love

Leave a Comment