UGC ने कॉलेज और यूनिवर्सिटी के लिए जारी की नई गाइडलाइंस, टीचिंग आवर बढ़ाने के साथ ही हफ्ते में 6 दिन लगेंगी क्लासेस

  • Hindi News
  • Career
  • UGC Has Released New Guidelines For Reopening Of Colleges And Universities, Classes Will Be Held 6 Days In A Week Along With Increasing Teaching Hours

एक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

यूनिवर्सिटी ग्रांट्स कमीशन (UGC) ने कोरोना के चलते लंबे समय से बंद कॉलेज और यूनिवर्सिटी को दोबारा खोलने के लिए गाइडलाइंस जारी कर दी हैं। आयोग की तरफ से जारी गाइडलाइंस के मुताबिक एकेडमिक ईयर 2020-21 में सिलेबस को पूरा करने के लिए शिक्षण संस्थान टीचिंग के घंटे बढ़ा सकते हैं। साथ ही स्टूडेंट्स, टीचर्स और अन्य स्टाफ की सुरक्षा के लिए क्लासेस की साइज भी कम की जा सकती है।

कैंपस में होगी आइसोलेशन की व्यवस्था

नई गाइडलाइंस के मुताबिक सभी शिक्षण संस्थान हफ्ते में छह दिन क्लासेस आयोजित कर सकते हैं, जिससे ज्यादा क्लासेस आयोजित की जा सके और एक क्लास में स्टूडेंट्स की संख्या भी कम हो सके। यूजीसी के निर्देशों के मुताबिक इंस्टीट्यूट किसी भी क्लास में ज्यादा से ज्यादा 50 फीसदी स्टूडेंट्स को बुला सकते हैं। इसके अलावा कैंपस में विजिटर्स की अनुमति नहीं होगी। किसी भी स्टूडेंट, टीचिंग या नॉन टीचिंग स्टाफ में कोरोना लक्षण दिखाई देने पर कैंपस में अलग से आइसोलेशन की व्यवस्था रखनी होगी।

16 मार्च से बंद शिक्षण संस्थान

24 मार्च से लगे देशव्यापी लॉकडाउन के बाद अब अनलॉक की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। ऐसे में UGC ने भी कॉलेज-यूनिवर्सिटी को दोबारा खोलने को लेकर दिशा-निर्देश जारी किए। यूजीसी ने कहा है कि स्टेट यूनिवर्सिटी और कॉलेजों में फिजिकल क्लासेस शुरू करने को लेकर राज्य सरकारें फैसला करेंगी। जबकि केंद्र से वित्तीय सहायता प्राप्त करने वाले हायर एजुकेशन इंस्टीट्यूट्स के प्रमुख कोरोना के बीच क्लासेस शुरू करने के लिए कैंपस खोलने का फैसला लेंगे।

इन गाइडलाइंस का करना होना पालन :

  • सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए छह फीट की दूरी बनाए रखनी होगी।
  • कैंपस में मास्क या फेस कबर करना अनिवार्य होगा।
  • कन्टेनमेंट जोन से बाहर स्थित इंस्टीट्यूट को ही खोलने की इजाजत दी जा सकती है।
  • कन्टेनमेंट जोन में रहने वाले स्टूडेंट्स और टीचर्स को कॉलेज में आने की अनुमति नहीं होगी।
  • फैकल्टी, स्टाफ और स्टूडेंट्स को आयोग्य सेतु ऐप का इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है।
  • कैंपस में कहीं भी थूकने पर पूरी तरह से पाबंदी होगी।
  • खांसते / छींकते समय मुंह और नाक को ढकने का सख्ती से पालन किया जाएं।
  • सभी रिसर्च कोर्सेस और साइंस टेक्नोलॉजी कोर्सेस के पीजी स्टूडेंट्स की संख्या कम होने की वजह से इन्हें पहले कॉलेज बुलाया जा सकता है।
  • बाद में संस्थान के प्रमुख के निर्देशानुसार एकेडमिक और प्लेसमेंट के मकसद से फाइनल ईयर के स्टूडेंट्स को भी बुलाया जा सकता है।

पूरी गाइडलाइंस पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Related Posts
Spread the love

Leave a Comment